Related Posts with Thumbnails

Friday, 13 January 2012

लोहड़ी की शुभकामनाऍं

नये साल में कोहरे और सर्द हवाओं के बीच चुपके से लोहड़ी दस्‍तक दे रहा है। पड़ासी रात को अलाव जलाऍंगे, तो उसकी धमक हम तक भी आएगी।
गाजर के हलवे की खूश्‍बू से घर महक उठा है। रजाई से नि‍कलने का मन नहीं होता। गुनगुनी धूप ललचाता है। ऐसे में परि‍वार के साथ रहने का मजा ही कुछ और है। मेरी तरफ से सबको लोहड़ी की लख-लख बधाइयॉं ।।
(इशान की कुछ और तस्‍वीरें ब्‍लॉग पर संजो रहा हूँ, इस बहाने एलबम से तस्‍वीरें बाहर तो घूम आऍंगी :)



2 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह, ईशानजी तो बड़े प्यारे लग रहे हैं।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सुन्दर चित्र .. ईशान को शुभकामनाएं