Related Posts with Thumbnails

Monday, 6 December 2010

LUCKnow : by chance (अंति‍म कड़ी)

गाइड हमें लखनऊ के इमामबाड़े से बाहर ले आया क्‍योंकि‍ भुल-भुलैया जाने का रास्‍ता बाहर से था। भूख लग आई थी, पर अब भुलभुलैया और शाही बावली देखने के बाद ही खाने का इरादा बनाया। दोपहर के दो बजे तब धूप का पता ना था और ठंड शाम की तरफ पैर फैला रही थी। भुलभुलैये के पास वही टि‍कट दि‍खाकर हम सीढ़ि‍यों से करीब दो-तीन फ्लोर तक ऊपर चढ़ गए। सामने करीब 6 फुट का गलि‍यारा हर तरफ से नि‍कलता नजर आया।

भुल-भुलैया इमामबाड़े के हॉल के ऊपर ही बना हुआ है जि‍समें अनेक छज्‍जे व 489 द्वारों वाले एक जैसे रास्‍ते हैं।




इस संरचना का उद्देश्‍य मुस्‍लि‍म समाज की धार्मिक आवश्‍यकताओं की पूर्ति व 1784 ई. में हुए वि‍नाशकारी अकाल के दौरान लोगों को सहायता प्रदान करना था।
गाइड ने भुलभुलैये में ले जाते हुए कहा कि‍ ये रास्‍ता याद रखना क्‍योंकि‍ लौटते हुए हमें खुद इसी रास्‍ते से वापस लौटना है। वह उसे ज्‍यादा मुश्‍कि‍ल बता रहा था पर मुझे यह ज्‍यादा मुश्‍कि‍ल नहीं लगा। भुलभुलाये से ऊपर इमामबाड़े की छत से गोमती नदी के तरफ का दृश्‍य काफी सुंदर नजर आ रहा था।




बाहर आने के बाद हम शाही बावली की तरफ चल पड़े। आपको जानकर हैरानी होगी कि‍ ऐसी ही एक बावली दि‍ल्‍ली में कनॉट प्‍लेस के पास भी है-

गाइड ने बताया कि‍ अंग्रेजों से बचने के लि‍ए नवाब ने इसी में खजाने की चाबी गि‍रा दी थी। बाद में अंग्रेज इसका पानी नि‍कालते रहे पर यह बावली खाली ही नहीं होती थी। इसका कारण यह था कि‍ यह साथ बहनेवाली गोमती नदी से सीधे जुड़ी हुई थी।
यहॉ बैठकर बाहर से आनेवाले का रंगीन प्रति‍बिंब देखा जा सकता था, मगर वह खुद दूसरों को नजर नहीं आता।

गाइड को पैसे देकर इमामबाड़े से हम करीब एक घंटे में बाहर नि‍कल आए और बाहर नि‍कलते ही एक सुंदर इमारत रोड के उस पार नजर आई-

वहीं एक टांगेवाला हमें पकड़ लेता है और सुझाव देता है कि‍‍ आप छोटे इमामबाड़े और वहॉं के म्‍यूजि‍यम में जाकर समय खराब करना चाहते हैं तो आपकी मर्जी मगर आप चि‍कन की कढ़ाई की फैक्‍ट्री जाऍं तो ज्‍यादा बेहतर। मैं समझ गया कि‍ यहॉं आगरे के लाल कि‍ले के पास खड़े टांगेवालों का एक जैसा ही हाल है। वैसे इति‍हास के पन्‍नों से बाहर अब हम कला का नमूना देखना चाहते थे। हम तांगे पर बैठकर चल पड़े। सामने ही रूमी दरवाजा था जो इस तरफ से झरोखों से युक्‍त तीन मंजि‍ला दरवाजे के रूप में नजर आ रहा था जबकि‍...

उसपार नि‍कल जाने पर वह एक ऊँचे दरवाजे के रूप में खड़ा दि‍खाई दे रहा था और यही इसकी खासीयत थी-


तांगेवाला हमें बताने लगा कि‍ लखनऊ की‍ छ: चीजें प्रसि‍द्ध हैं-
1.इमामबाड़ा
2. तांगा
3. तहजीब
4. कुंदा कवाब
5.उमरावॅ जान
6. कपड़े पर चि‍कन का काम
आप समझ गए होंगे कि‍ तांगा दूसरे नंबर पर क्‍यों है, बकौल तांगेवाला- यह नवाबों की शाही सवारी थी। कपड़े की दुकान को फैक्‍ट्री बताकर उसने हमें एक जगह उतार दि‍या। दुकान के बाहर खड़े गार्ड ने हमें अंदर आने का आग्रह कि‍या।
हम असमंजस कदमों से अंदर गए और पूछा कि‍ यहॉं चि‍कन कढ़ाई का काम कहॉं चल रहा है। अंदर एक कमरे में एक लड़की बुनाई कढ़ाई का काम कर रही थी। उसके बाद हम दुकान के काउंटर पर गए।
20-25 मि‍नट में हम वापस जाने के लि‍ए ऑटो तलाश रहे थे। या तो हमें इस कला की समझ नहीं थी या ये जगह चि‍कन कढ़ाई की फैक्‍ट्री नहीं थी, या ये लखनऊ नहीं था और सबसे ज्‍यादा हम इस बात से सहमत थे कि‍ अब दि‍ल्‍ली में सबकुछ मि‍लता है और सही कीमत पर।
हजरतगंज लखनऊ का कनाट प्‍लेस है मगर अभी उसकी हालत बि‍गड़ी हुई थी। वहॉं का जनपथ मार्केटिंग के लि‍हाज से ठीक लगी, पर थी बहुत महंगी। शाम हो चुकी थी और ठंड बढ़ने के साथ हम घर पहुँच चुके थे। रात तो लखनऊ मेल से वापस जाने से पहले दोस्‍त के साथ डि‍नर भी करना था। मि‍ला जुलाकर लखनऊ को हम बस इमामबाड़े और दोस्‍त की मेहमानवाजी की वजह से याद रख सकते थे।
कोई ये समझाएगा कि‍ लखनऊ को अंग्रेजी में luck + now = lucknow क्‍यों लि‍खते हैं जबकि‍ होना चाहि‍ए lukhnou या कुछ और....
लगता है लखनऊ में जाते ही luck काम करने लगता है :)

.....क्‍योंकि‍ हमारी ये यात्रा भी रही 'luck' by chance.
पहली कड़ी के लि‍ए यहॉं क्‍लीक करें

आज शाम मैं अपनी पत्‍नी और बेटे के साथ 4 घंटे के लि‍ए शि‍मला-टूर पर जा रहा हूँ। 4 घंटे की टूर से हैरान मत होइए, लौटकर बताउँगा सफर के बारे में।

Sunday, 5 December 2010

लखनऊ और बस इमामबाड़ा...( पहली कड़ी )

लखनऊ मेल के टी.टी. ने हमे तब तक कंपार्टमेंट से बाहर टहलने को कहा, जब तक टि‍कट हाथ में ना आ जाए। गाजि‍याबाद में टि‍कट हमारे हाथ में आने के बाद ही हमने राहत की सॉंस ली। मेरे दोस्‍त ने सुबह हमें स्‍टेशन से रीसि‍व कि‍या। घर पहुँचकर हमने नाश्‍ता कि‍या और जि‍स मकसद से आए थे उससे शाम तक नि‍पटा आए। अब ऐसा लग रहा था कि‍ कल की जगह हमें आज रात की टि‍कट करवा लेनी चाहि‍ए थी। पर शाम को जब सब साथ बैठे तो गपशप में समय कैसे नि‍कल गया पता ही नहीं चला।
अगली सुबह हमने लखनऊ देखने का कार्यक्रम बनाया, वो भी रि‍क्‍शा से इमामबाड़े तक जाने का। पता चला एक घंटा लगेगा। मैंने ऑटो कि‍या और 15 मि‍नट में इमामबाड़ा सामने था।
प्रवेशद्वार से अंदर आते ही सामने यह प्राचीन इमारत अपनी ऐति‍हासि‍क दास्‍तॉं बयॉं कर रहा था।

पीछे पलटकर हमने जब प्रवेशद्वार को देखा तो वह और उसके सामने का लॉन कोहरे की उस सुबह में काफी रूमानी अहसास दे रहा था।

हमें कपड़े की मार्केट में भी जाना था, नहीं तो इस पार्क में बैठकर मैं जरूर सोचता कि‍ नवाब आसफ उद्दौला अपनी बेगम के साथ इस बनते हुए इमारत को यहॉं से खड़े होकर कि‍तनी बार देखते रहे होंगे।


वैसे तो ये भी एक प्रवेशद्वार ही था जहॉं से 50 रूपये का टि‍कट लेकर हम अंदर चले आए। अंदर आने के बाद सामने इमामबाड़ा नजर आया-



अब तक हम दो दरवाजे पीछे छोड़ आए थे-



क्‍लोजअप-


बॉंयी तरफ आसि‍फी मस्‍ि‍जद नजर आ रहा था।




इमामबाड़े में प्रवेश करने से पहले जूते उतारने पड़ते इसलि‍ए हमने पहले आसपास घूमना पसंद कि‍या। इमामबाड़े की दी‍वारों को नि‍हारती हुई मेरी बेगम-


अब हम इमामबाड़े की तरफ चल पड़े। वहॉं दरवाजे पर वर्दीधारी गाइड पर्यटकों को अपने रेट समझाने में व्‍यस्‍त थे। हमने 110 रूपये में एक गाइड साथ कर लि‍या जो हमें पहले इमामबाड़ा, फि‍र भूलभुलैया और अंत में शाही बावली की सैर कराता।
हालॉंकि‍ उसे साथ लेने का कोई खास फायदा नजर नहीं आया। प्रवेश द्वार के पास बोर्ड पर कामचलाऊ जानकारी लि‍खी मि‍ल गई थी जि‍सके अनुसार-
नवाब आसफ उद्दौला (1775-97 ई.) के नि‍र्देशानुसार 1784-91 के मध्‍य नि‍र्मित यह भव्‍य संरचना बड़ा इमामबाड़ा के नाम से वि‍ख्‍यात है जि‍सकी रूपरेखा वास्‍तुवि‍द् कि‍फायतुल्‍लाह द्वारा तैयार की गई थी। इस भवन में नवाब आसफ उद्-दौला व उनकी पत्‍नी शमसुन्‍नि‍सा बेगम की कब्रें हैं। इस इमारत में तीन मेहराबों वाले दो प्रवेश द्वार हैं।
इस तरह यह भी पाया कि‍ स्‍मारक के उत्‍तर में नौबतखाना, पश्‍चि‍म में आसफी मस्‍ि‍जद एवं पूरब में शाही बावली है, जबकि‍ मुख्‍य इमामबाड़ा दक्षि‍ण में स्‍ि‍थत है।
इमामबाड़े के अंदर आने पर लगभग तीन मंजि‍ला हॉल नजर आया जि‍सके बारे में तथ्‍य ये है कि‍ बि‍ना कि‍सी सहारे पर टि‍की केन्‍द्रीय हाल की वि‍शाल छत अपने में वि‍श्‍व की अनोखी मि‍साल है जि‍सकी लंबाई लगभग 50 मीटर और चौड़ाई 16.16 मीटर है,जबकि‍ इसकी ऊँचाई लगभग 15 मीटर है।


केन्‍द्रीय हाल के दोनों पार्श्‍वों में भी एक-एक कक्ष है तथा मुख्‍य इमारत का मुखभाग 7 मेहराब-युक्‍त द्वारों से सज्‍जि‍त है। चूने के गारे व लखौरी ईटों से नि‍मिर्मित इस मुख्‍य इमारत की अलंकृत मुंडेरे छतरि‍यों से सज्‍जि‍त हैं जि‍नकी बाहरी सतह पर चूने के मसाले से अदभुत डि‍जाइनें उकेरी गई हैं। इसका भीतरी भाग कीमती झाड-फानूसों, ताजि‍यों, अलम आदि‍ धार्मिक चि‍न्‍हों से सज्‍जि‍त है।


गाइड ने इस हाल के दूसरे छोर पर, जो करीब 50 मीटर की दूरी पर था, खड़ा हो गया और फुसफुसाया, साथ ही माचि‍स की ति‍ल्‍ली जलाई। उसकी प्रति‍ध्‍वनि‍ ऐसी थी जैसे पास ही खडे होकर यही गति‍वि‍धि‍ की गई हो। दरअसल इस हाल की छत पर पतली कि‍नारि‍यॉं बनाई गई है तो माइक का काम करती हैं। हॉल में इकट्ठे लोगों को भाषण साफ-साफ सुनाई दे, इसके लि‍ए200 साल पहले अपनाई गई यह तकनीक काफी वैज्ञानि‍क लगी।


अगली और अंति‍म कड़ी में भुलभुलैया और शाही बावली के बारे में बताऊँगा।

यात्रा ति‍थि‍: 22-23 नवम्‍बर 2010.

Sunday, 21 November 2010

बद्रीनाथ-औली यात्रा से वापसी (अंति‍म कड़ी)


ऐसा लग रहा है जैसे स्‍वर्ग से सीढी लगा कर सीधे पर्वतों पर उतर रहे हों, पर्वत एक वि‍राट दरवाजा हो जि‍सके आसपास बड़े-बड़े वृक्ष्‍ा भी हरे-भरे पत्‍तों के समान फैले हुए हों, घास की हरी घाटि‍यॉं तराई में जाकर जैसे सि‍मट रही हो.....
दि‍ल्‍ली की गर्मी से बाहर आने के बाद रोपवे से यह सुंदर पर्वतीय दृश्‍य अचानक आपको और भी हैरान अचंभि‍त कर देगा।
रोपवे टावर नं 10 से टावर नं.8 की तरफ चल पड़ी। वहॉं से पर्वतों का वि‍हंगम दृश्‍य उपर दि‍ए गए उपमान से भी कहीं ज्‍यादा सुंदर है।
मैं यह सोचकर उदास हो रहा था कि‍ ऑली तक कार से आने की वजह से मैं रोपवे का मजा नहीं ले पाउँगा, मगर पता चला कि‍ सुबह-सुबह रोपवे अपने ट्रायल पर टावर नं 10 से टावर नं 8 का एक चक्‍कर लगाती है और अनुरोध करने पर वे बिठा भी लेते हैं। इसलि‍ए हम ऊपर की तरफ टावर नं 8 से पैदल टावर नं 10 के लि‍ए चल पड़े थे। टावर नं 10 करीब एक कि‍मी. दूर दि‍खाई दे रहा था पर वहॉं जाना बेकार नहीं गया।

हम सभी केबल कार से वापस टावर नं 8 पर उतर गए। जोशीमठ से परि‍वार के अन्‍य सदस्‍य 10 बजे तक पहुँचने वाले थे और अभी 8 बज रहे थे।

वे सभी सदस्‍य सीधे टावर नं 10 पर ही उतारे जाते इसलि‍ए हम लोग फि‍र से 8 नं से उतरकर टावर नं 10 की तरफ चल पड़े। हालॉकि‍ वहॉं दुबारा जाने की हि‍म्‍मत नहीं हो रही थी।
रास्‍ते में एक जगह पत्‍थर और टीले नजर आ रहे थे। हमने शैलेंद्र जी को गब्‍बर का रॉल देकर 5 मि‍नट की शोले बनाई- 'कि‍तने आदमी थे' वाला सीन।

टावर नं 10 औली के ऊपरी हिस्‍से पर बना हुआ था। वहॉं एक कैंटीन है जहॉं मैगी जैसी चीज खाने-पीने को मि‍ल जाती है। पर्वतों को नि‍हारते हुए समय थम-सा गया था।

तभी रोपवे से केबल कार आती हुई नजर आई। एक ग्रूप तो आ गया मगर मेरी पत्‍नी, बेटा और कुछ अन्‍य सदस्‍य अगली पारी में करीब आधे घंटे बाद आते। मैं उन्‍हें मि‍स कर रहा था।




मैं सोच रहा था कि‍ औली से 11 बजे तक सब नीचे जोशीमठ ऊतर जाऍंगे और 12 बजे तक दि‍ल्‍ली के लि‍ए रवाना हो लेंगे। रात के अंधेरे में पहाड़ो पर कार चलाने से मैं बचना चाहता था और लेट होने का मतलब था श्रीनगर में रात गुजारना। यानी अगले दि‍न ऋषि‍केश तक फि‍र पहाड़ी रास्‍ता , और तब दि‍ल्‍ली....
सबने आस पास के दृश्‍यों का सपरि‍वार आनंद लि‍या, फोटो खिंचवाये, पर दूर नहीं गए क्‍योंकि‍ जल्‍दी ही सबको वापस लौटना था।

सभी सदस्‍यों के आने के बाद, उनके साथ 20-30 मि‍नट बि‍ताने के बाद मैं नीति‍न, रोहि‍त, अन्‍नू के साथ अपने बेटे इशान को भी लेकर कार तक जाने के लि‍ए पहाड़ से नीचे ऊतरने लगा।



पूरे रास्‍ते इशान को खूब मजा आया। तीन साल का बच्‍चा पहाड़ों की ढलान को पहली बार देख रहा था और उसपर बेलगाम लुढकने के लि‍ए उतारू था। हमें उसे संभालने में काफी मशक्‍कत करनी पड़ी। रास्‍ते में एक बेहद खूबसूरत जगह झूले भी लगे हुए थे।
(नीति‍न के साथ इशान)


हम सभी औली से जोशीमठ 12 बजे तक पहुँच गए मगर खाना-पीना नहीं हुआ था, कि‍सी तरह सभी एक जगह इकट्ठे हुए और फि‍र काफि‍ला चल पड़ा। मैं आगे-आगे चल पड़ा। बस अब एक ही धुन सवार था कि‍ कि‍सी तरह पहाड़ी रास्‍ता पार कर लूँ।
चमोली, कर्णप्रयाग,रूद्रप्रयाग, देवप्रयाग पार करते-करते अंधेरा छा चुका था, और करीब 70 कि‍.मी. का रास्‍ता बचा था। 8 बज गए थे और हमें कि‍सी भी तरह ऋषि‍केश पहँचकर हॉटल लेना था। देवप्रयाग तक नॉनस्‍टॉप ड्राइव करते करते पस्‍त हो चुका था, लेकि‍न नीति‍न रोहि‍त ने रास्‍ते का ख्‍याल रखा और मुझे सावधान करते रहे।
देवप्रयाग पहुँचने पर पता चला कि‍ पीछे से आने वाली दोनो गाड़ि‍यॉं रूद्रप्रयाग में ही रूक रही हैं क्‍योंकि‍ अन्‍नू की तबीयत अचानक काफी खराब हो गई है।
खैर मैं कि‍सी तरह ऋषि‍केश 10 बजे तक पहुँच ही गया। सब मेरी ड़ाइविंग से हैरान थे और मैं थकान से चूर-चूर।
कब खाया, कब सोया कुछ पता नहीं चला।
अगले दि‍न सुबह-सुबह हम ऋषि‍केश से दि‍ल्‍ली के लि‍ए चल पड़े और करीब 2 बजे मैं अपने घर पर आराम कर रहा था।
उस वक्‍त तक काफि‍ले की बाकी दोनों गाड़ि‍यॉं ऋषि‍केश तक ही पहुँच पाई थी.....
(यात्रा समाप्‍त।)

8वीं सदी में आदि‍ शंकराचार्य ने बद्रीनाथ के इस तीर्थ की तलाश की थी। आदि‍ शंकराचार्य मलयाली थे। केरल के नम्‍बुदरी ब्राह्मण बद्रीनारायण मंदि‍र के प्रति‍ बेहद आस्‍थावान है।
हम सभी इस धार्मिक और पर्वतीय यात्रा से गदगद हुए और एक यादगार लम्‍हा जीया।

अब पि‍छली कड़ी में पूछे गए प्रश्‍न का जवाब देता हूँ,क्षमा भी चाहता हूँ कि‍ इस कड़ी का समापन इतने दि‍नों बाद कर रहा हूँ-
पि‍छली कड़ी में मैंने पूछा था कि‍ ऑली की इस तस्‍वीर में यह रास्‍ता कि‍स काम आता है?
यह रास्‍ता स्‍कीइंग के लि‍ए प्रयोग कि‍या जाता है। इन दि‍नों अब बर्फ के कृत्रि‍म फव्‍वारे भी लगाये जा रहे हैं ताकि‍ कम बर्फबारी में स्‍कीइंग के लि‍ए पर्याप्‍त बर्फीला रास्‍ता बरकरार रहे।


पानी का संचय भी इसी लि‍ए कि‍या गया है कि‍ इसे बर्फ के फव्‍वारे बनाने के लि‍ए इस्‍तमाल कि‍या जा सके।


दूसरा प्रश्‍न नीचे दि‍खाई गई इन दो तस्‍वीरों से संबंधि‍त था।







मैंने पूछा था कि‍ ऑली में इन खंभों का इस्‍तमाल कि‍स लि‍ए कि‍या जाता है?
दरअसल स्‍कीइंग के प्रति‍योगि‍यों को ऊँचाई पर लाने-ले जाने के लि‍ए यह कुर्सीनुमा ट्राली है जो रोपवे के माध्‍यम से ऊपर तक जाती है। केबल कार में अधि‍कतम 25 लोग आ सकते हैं जो जोशीमठ से ऑली तक आना-जाना करती है, मगर यह चेयर-ट्रॉली औली में स्‍कीइंग के एक स्‍पॉट से दूसरे स्‍पॉट पर एक सवारी/प्रति‍योगी को लाती-ले जाती है।
अंतर सोहि‍ल और नीरज भाई ने पहले सवाल का जवाब सही दि‍या था।

जाते-जाते याद दि‍लाना चाहुँगा कि‍ औली में एक ही रि‍सॉर्ट है- क्‍लीफ टॉप, इसके अलावा वहॉं और कोई हॉटल नहीं है।
स्‍कीइंग का आनंद उठाने की बड़ी तमन्‍ना है, देखता हूँ क्‍लीफ टॉप में रूकने का कब अवसर मि‍लता है।

पि‍छली कड़ि‍यॉं-

पर्वतों से आज मैं टकरा गया........(भाग 4)
बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 3)

बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 2)

बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 1)

Saturday, 13 November 2010

जीवन चासनी-सा.....

-तुमने चासनी में जामुन क्‍यों छोड़ा ?


उसे समझ नहीं आया। मैंने डब्बा सामने कर दि‍या।


'बि‍कानो' के डब्‍बे में आधा गुलाब जामुन तैर रहा था।


-गुलाब तो तुम खा गई, अब तो जामुन ही बचा है , पूरा ही खा लेती!!


-एक ही बचा था सो आधा तुम्‍हारे लि‍या छोड़ दि‍या!


दोनो हॅसते-हँसते अपने अपने काम पर नि‍कल गए।


दोपहर बाद मैंने उसे फोन कि‍या-


-हैलो !!कहाँ हो ?


पीछे गाड़ि‍यों की हॉर्न सुनाई पड़ रही थी


-मार्केट में हूँ!


-क्‍या खरीद रही हो ?


-हूँ..... पुत्‍तर के लि‍ए कलर बुक खरीद रही हूँ, कुछ काम है क्‍या ?


-कुछ नहीं यूँ ही फोन लगा लि‍या था !


इससे पहले मैं कुछ कहता, मोबाइल पर कि‍सी नंबर से कॉल वेटिंग नजर आया।


मैंने कहा-


-होल्‍ड करो, मैं दूसरी तरफ बात करके लौटता हूँ,


-हैलो.. कौन बोल रहा है?...


.........




मैंने फि‍र पूछा, पर कोई जवाब नहीं आया.........


कॉल वेटिंग का फोन उठाने पर कई बार पीक नहीं होता है,


हार्न की आवाज फि‍र आने लगी-
-हैलो कौन है उधर...... , कौन है......, बोलो भी....सोनि‍या तुम हो क्‍या ?
-हॉं, मैं लाइन पर हूँ!
-तो तुम बोल क्‍यों नहीं रही?
उसने मासूमीयत से कहा-
-मैं तो इधर हूँ ना, तुम तो कि‍सी और से बात करने गए थे ना मुझे होल्‍ड पर रखकर !


मेरी हँसी छूट गई!!


-अरे ,यार इधर-उधर क्‍या होता है, जब तुम्‍हे मेरी आवाज सुनाई दे रही है तो समझो दूसरा कॉल पीक नहीं हुआ, तुम भी ना !!


शाम को जब मैं घर लौटा और सेब नि‍कालने के लि‍ए फ्रीज खोला तो सामने गुलाब जामुन से पैक 'बि‍कानो' का डब्‍बा नजर आया!!


-तो तुम मार्केट में कलर बुक खरीद रही थी.....


यह कहते ही मुस्‍कुराहट से शाम गुलाबी होने लगी।








Monday, 8 November 2010

मुझे ओबामा से मि‍लना है!!




टीवी. पर पि‍छले तीन दि‍नों से ओबामा दि‍खाई दे रहे हैं। मैंने अपने बेटे को बताया- बेटा ये हैं ओबामा, क्‍या नाम बताया ?


अपनी धुन में रि‍मोट कार चलाते हुए मेरे साढ़े तीन साल के बेटे ने दुहराया- उगा मामा


उगा मामा नहीं बेटा, ओबामा !
ये कोई चंदा मामा थोड़े ही हैं जो उगेंगे, ये तो दुनि‍या के सबसे ताकतवर आदमी हैं.....
एस.पी.डी. की तरह!
(एस.पी.डी. बच्‍चों के हंगामा चैनल पर आनेवाला एक फाइटिंग प्रोग्राम है।)
हॉं बेटा, यही समझ लो। ये अमेरि‍का के प्रेसीडेंट हैं और हमारे यहॉं मार्केटिंग करने आए हैं, अपने साथ हेलीकेप्‍टर,जेट, तोप और नई तकनीक भी लाए हैं !

हेलीकेप्‍टर का नाम सुनकर उसने अपना रि‍मोट रोककर पूछा-

पापा, मुझे ओबामा से मि‍लना है, मुझे भी ये टॉयज चाहिये‍ ! क्‍या उसके पास रि‍मोटवाली बोट है?


हॉ बेटा उनके पास सबकुछ है।


टीवी. पर ओबामा का भाषण आ रहा था। मेरे बेटे ने देखा सभी सांसद उनका स्‍वागत कर रहे हैं और तालि‍यॉं बजा रहे हैं।
पापा ओबामा कहॉं है अभी ?
संसद भवन में!
वह अचानक गौर से टीवी. देखने लगा।
-पापा, पापा ओबामा ने टॉयज कहॉं रखें हैं नजल नहीं आ लहा।
अपनी कार में बेटा!
पापा चलो ओबामा के पास टॉयज़ लेने चलो ना!
मैंने कहा- बेटा अब काफी रात हो गई है, ओबामा अंकल कल अमेरि‍का जा रहें हैं, वहॉं से वो ढेर सारे टॉयज़ भेजेंगे !
फि‍र ठीक है- यह कहकर वह अपनी रि‍मोट वाली कार में फि‍र से मगन हो गया।

मैं टी.वी में देखने लगा कि‍ तथाकथि‍त वि‍कसि‍त भारत की तस्‍वीर में वास्‍तवि‍क चीजें कैसे नदारत हो जाती हैं या कर दी जाती हैं।
खतरा तब ज्‍यादा होता है जब हम खुद को धोखा देते हैं..........





Tuesday, 22 June 2010

पर्वतों से आज मैं टकरा गया........(भाग 4)

बद्रीनाथ से लौटते हुए जोशीमठ में अंधेरा हो चुका था। रात वहीं होटल में रूके। सुबह 4 बजे मैंने नीति‍न को औली चलने के लि‍ए उठाया जो यहॉं से 12 कि.मी. ही दूर था। सोचा था, हम दोनों औली से 10 बजे तक लौट आऍंगे और उसके बाद सभी दि‍ल्‍ली के लि‍ए रवाना हो जाऍंगे। मगर सोचा हुआ होता कहॉं है।

जैसे ही हम दोनों चलने को हुए, शैलेंद्र जी और रोहित- दोनों औली जाने के लि‍ए तैयार मि‍ले। पहले तो इरादा था कि‍ जोशीमठ से रोपवे (केबल कार) के द्वारा औली पहुँचा जाए, मगर 6 बजे ये संभव नहीं था। उसका कि‍राया 500/- प्रति‍ व्‍यक्‍ति‍ था, और वह 9 बजे से आरंभ होता था। बजट और समय- दोनों का नुक्‍सान देखते हुए मैंने कार से ही जाना तय कि‍या। ऊपर सड़क मार्ग खत्‍म होने के बाद 2-3 कि.मी. पैदल चलना पड़ा। कार भी पहले ही खड़ी करनी पड़ी क्‍योंकि‍ रास्‍ते में बड़े गड्ढे और उभरी हुई चट्टानें थी।

वहॉं से हमारे चारो तरफ ऊँचे-ऊँचे पहाड़ ही नजर आ रहे थे। माना पर्वत,अल गामि‍न, कामेट, मुकुट पर्वत, त्रि‍शूल और नंदा देवी जैसे प्रसि‍द्ध पर्वतीय चोटि‍यॉं के अलावा हाथी-घोड़ा-पालकी और सुमेरू पर्वत सर उठाए खड़े थे। सुमेरू पर्वत का नाम रामायण में आता है, जब लक्ष्‍मण के लि‍ए हनुमान संजीवनी बूटी ढूँढते हुए यहॉं आए थे और इस पर्वत को उठा ले गए थे। इसलि‍ए हैरानी की बात नहीं कि‍ यहाँ के गॉंव में हनुमान की पूजा नहीं की जाती है।

मेरा 5 मेगापि‍क्‍सल का नि‍कॉन कैमरा धुंध में तस्‍वीरें लेने में नाकाम रहा क्‍योंकि उसका ऑटोफोकस खराब हो चुका था। इसलि‍ए जानकारी के लि‍ए गूगल की तस्‍वीरें दि‍खाकर काम चला रहा हूँ।

कंचनजंगा( 8,586 मीटर /28,169 फीट)  के बाद भारत की दूसरी सबसे ऊँची चोटी नंदा देवी ( 7,816 मीटर/25,643 फीट)मेरी दायीं तरफ ऐसी नजर आ रही थी जैसे गाए बैठी हो, वैसे तेवर शेर-चीते सा था-

नन्दा देवी पर्वत ( 7,816 मीटर/25,643 फीट)


ऑली के ठीक सामने त्रि‍शूल पर्वत नजर आता है-

त्रि‍शूल पर्वत (7,120 मीटर / 23,360 फीट)


उसके साथ कामेट और मुकुट पर्वत नजर आ रहा था-


कामेट (7,756 मीटर / 25,446 फीट) 





मुकुट पर्वत ( 7,242 मीटर / 23,760 फीट)




और बायीं तरफ देखने पर बद्रीनाथ की दि‍शा में नीलकंठ नजर आ रहा था।
नीलकंठ (6,596 मीटर / 21,640 फीट)






उसी के आसपास माना पर्वत और अल-गामि‍न भी थे-

माना पर्वत (7,272 मीटर / 23,858 फीट)
अबी गामि‍न (7,355 मीटर / 24,130 फीट)




तुलना के लि‍ए जानकारी दे रहा हूँ कि‍ वि‍श्‍व की उच्‍चतम चोटी एवरेस्‍ट की ऊँचाई 8,848 मीटर / 29,029 फीट है जो नेपाल में है। उसके बाद  के-2 (ऊॅंचाई- 8611 मीटर/ 28251) का नंबर आता है जो पाकि‍स्‍तान में है।


पर्वतों के बीच ईश्‍वर की इस भव्‍य और वि‍शालकाय रचना से अपनी लघुता और छुद्रता- दोनों का अहसास हो रहा था।
इन पर्वतों को देखकर ऐसा लग रहा था मानों ये सीख दे रही हो कि‍ वि‍शाल होना उतना महत्‍वपूर्ण नहीं है, महत्‍वपूर्ण है वि‍शाल होते हुए स्‍थि‍र रहना। इतनी ऊँचाई पर हम सोचते हैं कि‍ हमने पर्वतों पर फतह कर ली। पर सच्‍चाई ये है कि‍ हमने प्रकृति‍ के मूल रूप को सड़क मार्ग, वृक्ष उन्‍मूलन और डैम-निर्माण से रौंद डाला।
इसलि‍ए मुझे कभी-कभी लगता है कि‍ प्रकृति‍ जहॉ सबसे सुंदर नजर आती है, वहीं वह क्रूरतम रूप में प्रकट होकर मनुष्‍यों से प्रति‍कार लेती है। पि‍छले 200 सालों में उत्‍तराखण्‍ड 116 भूकंप झेल चुका है और उनमें सबसे ज्‍यादा वि‍नाश 1803, 1905, 1988 और 1991 में हुआ था।

ऑली लगभग 3000 मीटर की ऊँचाई पर स्‍थि‍त एक बेहद छोटा हि‍ल स्‍टेशन है जहॉं जी.एम.वी.एन. का एक रि‍सॉर्ट क्‍लीफ टॉप ही नजर आता है। इस मकान के अलावा यहॉं रोपवे के टावर और उसके दो स्‍टेशन नजर आते हैं।



पैदल चलते हुए हमने महसूस कि‍या कि‍ यहॉं पशुओं की हडि्डयाँ जहॉं-तहॉं बि‍खरी पड़ी थी। संभवत: ये जानवर बर्फीली ठंड न झेल पाने के कारण मर जाते होंगे।

पार्किंग-स्‍थल के पास गर्म दूध के साथ ब्रेड-बटर खाते हुए पहाड़ों को नि‍हारना अच्‍छा लग रहा था। इस बीच शैलेंद्र जी ने महसूस कि‍या कि‍ इतनी दूर आकर इन दृश्‍यों से बाकी लोग वंचि‍त रह जाऍं, यह ठीक नहीं है। उन्‍होंने फोन कर दि‍या कि‍ रोपवे आरंभ होने पर वे सभी ऑली आ जाऍं। अब वे मेरे ऑली आने के नि‍र्णय से खुश नजर आ रहे थे।

आपको ये बताना है कि‍ ऑली की इस तस्‍वीर में यह रास्‍ता कि‍स काम आता है?


रि‍सॉर्ट के पास टावर नं. 8 का रोपवे स्‍टेशन था। उसके बाद आखरी स्‍टेशन (नं 10) एक कि.मी. ऊपर नजर आ रहा था। हम टहलते हुए वहॉं तक जा पहुँचे।


मैं यह सोचकर उदास हो रहा था कि‍ कार से आने की वजह से मैं रोपवे का मजा नहीं ले पाउॅंगा। इस यात्रा के अगले और अंति‍म भाग में बताऊँगा कि‍ मैं रोपवे की सवारी कर पाया या नहीं!




फि‍लहाल आपको बॉंयी तरफ दो तस्‍वीरें दि‍‍खा रहा हूँ। आपको बताना है कि‍ ऑली में इन खंभों का इस्‍तमाल कि‍स लि‍ए कि‍या जाता है?

क्रमश:

अन्‍य कड़ि‍यॉं-
बद्रीनाथ- औली से वापसी(अंति‍म कड़ी)
बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 3)
बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 2)
बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 1)

Tuesday, 15 June 2010

बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 3)

जोशीमठ में बुधवार की रात सि‍र्फ चार घंटे सोने के बाद भी तरोताजा महसूस कर रहा था, हालॉंकि‍ दो दिन के भीतर दि‍ल्‍ली से करीब 500 कि.मी. कार चला चुका था, जि‍समें से 300 कि.मी. का पहाड़ी रास्‍ता भी शामि‍ल था। सुबह करीब 6 बजे तीनों गाड़ि‍यॉं बद्रीनाथ के लि‍ए निकल पड़ी। आरंभ का 10 कि.मी. सिंगल लेन सड़क थी और बद्रीनाथ से पहले करीब 15 कि.मी. की सड़क पथरीली थी।


वहॉं टायरों की कचूमर-सी निकल गई। मगर इन दोनों के बीच करीब 20 कि.मी. की सड़क बेहतरीन और चौड़ी थी, जि‍सपर कि‍सी नौसीखि‍ए ड्राइवर को भी कार चलाने का जी मचल जाए!


पाण्‍डुकेश्‍वर और हनुमानचट्टी से गुजरते हुए हम करीब 9 बजे बद्रीनाथ पहुँच गए। पाण्‍डुकेश्‍वर से पहले गोविंदघाट से हेमकुण्‍ड साहिब के लि‍ए रास्‍ता जाता है जो पंजाबि‍यों का तीर्थस्‍थल है। कहते हैं यहीं पर गुरू गोविंद सिंह ने साधना की थी। यहीं कहीं आसपास से फूलों की घाटी के लि‍ए भी रास्‍ता जाता है।

छठी क्‍लास में भूगोल पढ़ाते हुए अकरम सर ने भारत के नक्‍शे में जब इस जगह को मार्क करने के लि‍ए कहा था तब मैंने मजाक में भारत के नक्‍शे में कई फूल बना दि‍ए थे। तब मार भी खाई थी। पता नहीं ये शिक्षक बच्‍चों को इतना पीटते क्‍यों थे- ये सब सोचते हुए ओठों पर अनायास ही मुस्‍कान फैल गई! सोनि‍या और मेरा बेटा इशान गहरी नींद में सो रहे थे। उनकी नींद सीधे बद्रीनाथ जाकर ही खुली।


परेशानी ये थी कि‍ सुबह से चाय-बि‍स्‍कुट के अलावा कुछ भी खाने को नहीं मि‍ला था और अब बद्रीनाथ में सोनि‍या ने अनुरोध कि‍‍या कि‍ नारायण-दर्शन के बाद ही कुछ खाना! अपनी मंजि‍ल पर पहुँचकर मुझे अचानक तेज भूख लग आई थी- मन में यही गूँज रहा था- भूखे भजन न होय गोपाला!!
अब दर्शन से पहले नहाने की भी एक अनि‍वार्यता थी। पता चला कि‍ मंदि‍र के ठीक साथ एक गर्म कुण्‍ड है। हालॉंकि‍ नीचे अलकनंदा की तेज धार बह रही थी पर इसी वजह से उसके घाट पर कोई स्‍नान करता नजर नहीं आया!

तप्‍त कुण्‍ड का पानी इतना गर्म था कि‍ जैसे गर्म खौलते पानी में पॉव डाल दि‍या हो। पर वहॉं कई लोग नहॉं रहा थे। स्‍त्रि‍यों की सुवि‍धा के लि‍ए एक कुण्‍ड को चहारदीवारी से घेर दि‍या गया था। इशान हरिद्वार में ठंडे पानी की वजह से रोने लगा था, यहॉं गरम पानी की वजह से!

(शैलेंद्र जी तप्‍त कुण्‍ड के 55 डी्ग्री. तापमान को झेलते हुए:)

पानी देखने में उतना साफ नहीं था,फि‍र भी भगवान के नाम पर नहा आया। जैसा कि‍ आपको पता ही होगा, धरती के नीचे जलता लावा है। वे ऊपर की चट्टानों को गर्म कर देती हैं इसलि‍ए वहॉं का पानी गर्म होता है, संभवत:सल्‍फर की मौजूदगी से भी ऐसा होता है। जब मैं कुल्‍लू-मनाली गया था, तब वहॉं भी एक ऐसी जगह थी-मणि‍करण। हालॉकि‍ सि‍क्‍कि‍म, उड़ि‍सा आदि‍ जगहों के अलावा दुनि‍या भर में ऐसे कर्इ गर्म सोते मि‍ल जाते हैं।


नहाने के बाद पता चला कि‍ दर्शन के लि‍ए लंबी कतार में खड़ा होना पड़ेगा! भूख से मेरे पॉंव कॉंपने लगे थे। करीब 12 बज चुके थे। एक समझदारी हमने ये दि‍खाई थी कि‍ हमने नीति‍न को पहले ही कतार में खड़ा कर दिया था। जब तक सभी नहाकर आए, दर्शन करने का नंबर आ गया था!

इस बीच शैलेंद्र जी की पत्‍नी की तबीयत बिगड़ने लगी थी। 3133 मीटर (10248फीट) पर उन्‍हें आक्‍सीजन की कमी से लगातार उल्‍टि‍यॉ आ रही थी, डायरीया का शक था! दर्शन के ठीक बाद शैलेंद्र जी पास के एक डि‍सपेंसरी में ले जाकर उन्‍हें ग्‍लूकोज चढवाने लगे।
दर्शन होने के बाद हमने सबसे पहले प्रसाद से गुजारा कि‍या, फि‍र करीब तीन बजे एक रेस्‍टोरेंट में मारवाड़ी और पंजाबी थाली का आर्डर दि‍या। सबसे अच्‍छी बात ये रही कि‍ वहॉं तवे की रोटी मि‍ल गई। उधर भाभी जी की तबीयत में कुछ सुधार आ रहा था। शाम करीब पॉंच बजे के बाद बद्रीनाथ से जोशीमठ की तरफ जानेवाला रास्‍ता बंद कर दि‍या जाता है-यह सोचकर भी भाभी जी ने तबीयत ठीक बताई होगी!
खैर, जैसे-तैसे हम सभी साढ़े चार बजे तब लौटनेवाली गाड़ि‍यों की कतार में खड़े हो गए। मैं हमेशा अपसेट होता हूँ जब इतनी दूर आउँ और जल्‍दी-जल्‍दी के चक्‍कर में कुछ चीजें देखने से रह जाऊँ- जैसे वसुधारा नामक झरना नहीं देख पाया, माना गॉंव यहॉं से मात्र 5 कि.मी. दूर था, जो भारतीय सीमा का आखि‍री गॉंव था, वहॉं भी नहीं जा सका, न फूलों की घाटी देख सका, न ही हेमकुण्‍ड देख पाया! सबसे ज्‍यादा अफसोस इस बात की थी कि‍ इतनी दूर आया पर बर्फ से ढँके पहाड़ो पर चलने का सुख नहीं ले पाया क्‍योंकि‍ वे अभी भी हमसे कई कि.मी.दूर थे! हॉंलॉंकि‍ वे सामने ही नजर आ रहे थे। नीलकंठ पर्वत का मनोरम दृश्‍य अलौकि‍क प्रतीत हो रहा था!


अब हमें दि‍ल्‍ली के लि‍ए लौटना था और शाम के 5 बज रहे थे। जाहि‍र है हमें 45 कि.मी. दूर जोशीमठ में रात को रूकना ही पड़ता। मेरे दि‍ल में एक हि‍ल-स्‍टेशन जाने का क्रायक्रम बन चुका था, पर सभी लोग इतने थके हुए थे कि‍ ये बात अभी कहने का खतरा मैं नहीं लेना चाहता था! मैं कार चलाते हुए सोचता जा रहा था कि‍ औली से बर्फीले पर्वत कि‍तने पास नजर आते होंगे!
क्रमश:

अन्‍य कड़ि‍यॉं-
बद्रीनाथ- औली से वापसी(अंति‍म कड़ी)
पर्वतों से आज में टकरा गया (भाग 4)
बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 2)
बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 1)

Saturday, 12 June 2010

बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 2)

सोनि‍या श्रृषि‍केश से 70 कि.मी. आगे देवप्रयाग तक आ चुकी थी और मैं देवप्रयाग से लगभग 40 कि.मी. आगे श्रीनगर में होटल तलाश रहा था।

देवप्रयाग में अलकनंदा नदी और भगीरथी- दोनों का संगम है। यहीं से इनकी धारा मि‍लकर गंगा कहलाती है। देवप्रयाग से श्रीनगर की तरफ मुड़ते ही बद्रीनाथ तक के सफर में अलकनंदा नदी ही मार्गदर्शिका थी!

देवप्रयाग पहुँचने से पहले बोर्ड पर लि‍खी दूरि‍याँ- लोगों का हौसला तोड़ रही थी!


मैं और नीतिन-दोनों श्रीनगर के दो चक्‍कर काट आए। पर अंत में जी.एम.वी.एन.( गढ़वाल मंडल वि‍कास निगम) के टूरि‍स्‍ट बंगले में खाने और रूकने का सही इंतजाम लगा।



बुधवार, करीब साढ़े बारह बजे तब दोनों गाड़ि‍यॉं श्रीनगर आ गई। सबने पहले खाना खाया, उसके बाद ये तय कि‍या गया कि‍ सोनि‍या का यहॉं अकेले रूकना ठीक नहीं है, इसलि‍ए वह बद्रीनाथ तक साथ चले। रही 'उलटी' की बात, दवाई और बाकी चीजें श्रीनगर से खरीद ली गई।

करीब दो बजे हमारा काफिला श्रीनगर से आगे चल पड़ा। अगला मुख्‍य स्‍थल था- रूद्रप्रयाग। यहीं से एक रास्‍ता (एन.एच.109)ओखीमठ, गुप्‍तकाशी होते हुए केदारनाथ के लि‍ए जाता है। सोनि‍या और इशान अब मेरे साथ मेरी कार में थे।

रूद्रप्रयाग से केदारनाथ का 75 कि.मी. का सफर तीन घंटे में पूरा कि‍या जा सकता है, जबकि‍ रूद्रप्रयाग से बद्रीनाथ करीब 165 कि.मी.दूर है और आगे जोशीमठ में एक समय-सीमा के बाद गाड़ि‍यों को रोक दि‍या जाता है। मैंने ये बात सोनि‍या को बताई।

- वैसे तो मैं यहीं से लौट जाना चाहती हूँ मगर केदारनाथ पास है तो वहीं चल पड़ो। क्‍या फर्क पड़ता है!
- फर्क बस उतना ही है जि‍तना शि‍व और वि‍ष्‍णु में है। तुम्‍हारी जि‍धर श्रद्धा हो उधर चल पड़ो!

वह चुप हो गई। शायद उसके मन में कम दूरी की वजह से शि‍वधाम केदारनाथ जाने का इरादा बन रहा था।

- केदारनाथ के लि‍ए गौरीकुंड से 14 कि.मी. पैदल चढ़ाई करनी पड़ती है- कहो तो चल पड़ूँ!
- नहीं-नहीं, फि‍र तो बद्रीनाथ ही ठीक है, कार वहॉं तक चली तो जाएगी न!
- ये तो कार पर नि‍र्भर करती है, वैसे सड़क तो बद्रीनाथ से 4 कि.मी. आ्गे आखि‍री गॉंव माना तक जाती है,जहॉं से आगे चाइना बार्डर है।
- अच्‍छा, तो क्‍या हम चीन के बि‍ल्‍कुल नजदीक जा रहे हैं!!
- हॉं!
- वहॉं से हम कुछ चाइनि‍ज सामान तो खरीद सकते हैं ना!!
- लगता है तबीयत ठीक हो रही है,खरीदारी के नाम पर तो तुम लोग I.C.U. से बाहर नि‍कलने के लि‍ए तैयार हो जाती हो!
- ऐसी बात नहीं है!
सोनि‍या ने मुस्‍कुराते हुए कहा।
- फि‍र ?
- अब तुम्‍हारे साथ हूँ ना, इसलि‍ए तबीयत ठीक लग रही है!


रूद्रप्रयाग से 32 कि.मी. आगे कर्णप्रयाग आता है। नैनीताल की तरफ से आने वाली एन.एच 87 यहीं पर खत्‍म होती है। यहॉं से सड़क काफी चौड़ी हो गई थी और मैं यहॉं कार को औसतन 80 कि.मी. प्रति‍ घंटे की गति‍ से चलाने का जोखि‍म उठा रहा था। मेरे साथ समस्‍या ये है कि‍ जब कि‍सी मंजि‍ल पर पहुँचना होता है तो मुझे बीच में न रूकना अच्‍छा लगता है न ही खाना-पीना।

- तुम्‍हारा व्रत तो बद्रीनाथ में ही खुलेगा, पर हम दीन-हीन प्राणि‍यों पर दया करो,कहीं गाड़ी रोको और नाश्‍ता-पानी कराओ, बच्चा भी साथ है।

- कर्णप्रयाग से बस 16 कि.मी. ही दूर है चमोली। तुम्‍हे पता है इृस जगह की खासि‍यत?

- हॉं , 'कोई मि‍ल गया' की शूटिंग यहॉं हुई थी।

- गलत, यहीं से व्‍यापक स्‍तर पर 'चि‍पको आंदोलन' चलाया गया था।


अलकनंदा नदी सामने से इठलाती आ रही थी, मानो कह रही हो, जल्‍दी जाओ बद्रीनाथ, मैं वहीं से आ रही हूँ!! चमोली में हम आधे घंटे के लि‍ए रूके। तब तक हौंडा सि‍टी और स्‍कॉर्पियो भी चमोली पहुँच चुकी थी।


चमोली से जोशीमठ की दूरी 58 कि.मी. रह गई थी। शाम के 5 बजनेवाले थे, पर जून के पहले हफ्ते में सूरज की तपीश अपने चरम पर थी। पहाड़ तो था, पर ठंड नहीं थी। कुछ लोग इस बात से परेशान थे कि‍ उन्‍होंने गरम कपड़ो से अपने बस्‍ते का बोझ यूँ ही बढ़ाया!

जोशीमठ पहॅुचने के बाद एक-दो जगह बैरि‍यर लगा हुआ था,जहॉं से पुलि‍सवाले गाड़ि‍यों को बायीं तरफ खड़ी करवा रहे थे। मुझसे चुक हो गई या फि‍र पुलि‍सवालों ने मुश्‍तैदी नहीं दि‍खाई, इसलि‍ए मैं उस बैरि‍यर की अनदेखी कर जोशीमठ से एक-दो कि.मी. बाहर निकल आया। मुझे संदेह तो था, इसलि‍ए आगे एक पेट्रोल पंप पर टंकी फुल कराने के बाद पि‍छली गाड़ि‍यों का इंतजार करने लगा।

तभी शैलेन्‍द्र जी का फोन आया कि‍ जोशीमठ में दोनों गाड़ि‍यॉं रोक दी गई हैं,वापस आ जाओ, रात को यहीं हॉटल में रूकना पड़ेगा! मैंने तय कि‍या कि‍ अगर मैं अब बद्रीनाथ नहीं जा सकता, तो जोशीमठ से 15 कि.मी. ऊपर 'औली' हि‍ल स्‍टेशन में रात गुजारूँगा! सुबह वहॉं से उतरकर बाकी दोनों गाड़ि‍यों के साथ बद्रीनाथ के लि‍ए चल पड़ुँगा।

-'आपको अभी रात में ही जाना है तो जाओ, कल सुबह 5 बजे हम सभी आपको वहीं मि‍लेंगे।'

शैलेंद्र जी की इस बात से मैं शर्मिदा हो गया। बाद में पता चला कि‍ औली में बस एक ही रि‍सौर्ट है और वहॉं जाने के लि‍ए दो-तीन कि.मी. पैदल भी चलना पड़ता है।

जोशीमठ में खाना खाते,बच्‍चे के लि‍ए दूध आदि का इंतजाम करते-करते रात बारह बजे बि‍स्‍तर नसीब हुआ। कल सुबह बद्रीनाथ के लि‍ए करीब 44 कि.मी. का सफर तय करना था, यह सोचते हुए मैं नींद के आगोश में चला गया।

पि‍छली कड़ी पढने के लि‍ए क्‍लि‍क करें -
बद्रीनाथ- औली से वापसी(अंति‍म कड़ी)
पर्वतों से आज में टकरा गया (भाग 4)
बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 3)
बद्रीनाथ: एक रोमांचक सफर (भाग 1)क्रमश: