Related Posts with Thumbnails

Monday, 4 August 2008

पेश है शेर !

भीड़ में जब कभी तन्‍हाई चली आती है।


मैं रुका रहता हूँ परछाई चली जाती है।

2 comments:

महेंद्र मिश्रा said...

bahut badhiya sher badhai . likhate rahie,

mahashakti said...

शेर की दहा़ड़ तो काफी तेज है